Tuesday, April 24, 2018

कितनी मजबूत होगी रेलवे सुरक्षा हेल्पलाइन ?

रेल में सफर यूं तो आसान नहीं होता, मगर रेलवे का बार-बार दावा सामने आता है कि वो रेल में सुविधाओं का इजाफा करती आ रही है।
एक बार फिर रेलवे ने सुविधाओं की घोषणा की है। रेलवे का दावा है कि रेलवे सुरक्षा हेल्पलाइन 182 को और मजबूत किया जाएगा। दरअसल रेलवे के इस नंबर पर शिकायत करने पर संबंधित डिविजन के पास शिकायत पहुंचती है और रेल सुरक्षा बल पीड़ित को सुरक्षा प्रदान करता है। लेकिन दिक्कत इस बात की हैै कि जिसके पास शिकायत पहुंचती है वो कितनी सक्रियता दिखाकर शिकायत का निवारण करता है। अभी तक का इतिहास तो यही कहता है कि दो चार मामले छोड़ दें तो रेलवे सुरक्षाकर्मियों की लापरवाही की सजा रेल यात्रियों को भुगतनी पड़ती है। जब ट्रेन में डाका पड़े और मंत्री को लूट लिया जाए तो सुरक्षा कर्मियोंं की लापरवाही का बड़ा उदाहरण क्या बड़ा क्या हो सकता है। ट्रेन में चोरी, छेड़खानी , मारपीट, हत्या, हत्या की कोशिश, ट्रेन से नीचे फेंक देना ऐसे कई उदाहरण हैं जो रेलवे के दावों को मुंह चिढ़ाते हैं। रेलकर्मियों की लापरवाही से कई बार ट्रेन हादसे हो चुके हैं जिसने कई यात्रियों की जान ले ली। लेकिन रेलवे की बेशर्मी ये है कि वो इन सब बातों को नजरअंदाज कर सिर्फ यही कहता है कि वो यात्रियों को अच्छी सुविधाएं दे रहा है। वैसे पब्लिक भी समझदार है वो भी रेलवे के इन दावों को कचरे के डब्बे में फेंक देती है। जाहिर है  जरूरत इस बात की है कि रेलवे उन लापरवाह कर्मचारियों को चिन्हित करें जिनकी वजह से रेलवे की छवि धूमिल होती है। रेलवे अपने कर्मचारियों का परफॉरमेंस चेक करें और उसके आधार पर उनका प्रमोशन या डिमोशन या फिर बर्खास्ती का कार्य करें तभी रेलवे का दावा वास्तविकता का रूप लेगा। वरना ऐसे दावे तो दावे बनकर ही रह जाते हैं। 

No comments:

Post a Comment