Monday, March 19, 2018

लालू के पास कोई चारा नहीं !

19 मार्च को  की सीबीआई की विशेष अदालत ने राजद के प्रमुख लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाले के चौथे मामले में दोषी करार दिया है। चारा घोटाला मामले में दुमका कोषागार से 3 करोड़ 13 लाख की अवैध निकासी की गई थी। बता दें कि लालू इससे पहले चारा घोटाले के तीन मामलों में  दोषी करार दिए गए हैं। फिलहाल लालू रांची के बिरसा मुंडा जेल में बंद हैं। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा सहित 12 लोगों को अदालत ने चारा घोटाला मामले में रिहा कर दिया। जाहिर है इस फैसले से लालू प्रसाद यादव को जबरदस्त  झटका लगा है।आइए अब आपको बताते हैं कि ये घोटाला पशुपालन विभाग में किया गया था। बिहार पुलिस ने 1994 में इसको लेकर मामला दर्ज किया था। अनुसंधान के दौरान जांच के तार लालू प्रसाद यादव तक पहुंच गए। गुमला, रांची, पटना, लोहरदगा जैसी जगहों से करीब 900 करोड़ रुपए अवैध रूप से निकाल लिए गए। बाद में ये मामला सीबीआई को सौंपा गया जिसके बाद तत्कालीन मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव जांच की चपेट में आ गए और इसके बाद उनको गिरफ्तार कर लिया। हाईकोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक लंबी सुनवाई के बाद कोर्ट ने लालू के खिलाफ सुनवाई जारी रखने का फैसला सुनाया। जाहिर है ऊपरी अदालतों से लालू को कोई राहत नहीं मिला। 11 जून 1948 को गोपालगंज जिले के फुलवरिया में जन्मे लालू प्रसाद यादव के लिए 69 साल की उम्र में भारी मुसीबत आन पड़ी है। राजनीति की दुनिया में सबको हंसाने वाले लालू इस समय बेहद मुश्किल में हैं। भारतीय कानून के मुताबिक अब वो 11 साल तक लोकसभा का चुनाव नहीं लड़ सकते। वहीं चारा घोटाले के तीन मामलों में दोषी करार दिए जाने के बाद लालू की लोकसभा की सदस्यता खत्म हो गई।  इस चारा घोटाले ने लालू को इतना बेचारा बना दिया है कि उनको जेल जाने के अलावा और कोई चारा दिखाई नहीं दे रहा है। 

No comments:

Post a Comment