Wednesday, March 14, 2018

ब्रह्माण्ड के ज्ञाता का निधन

वैज्ञानिक स्टीफन्स हॉकिन्स का निधन हो गया है। 76 साल की उम्र में उन्होंने अंतिम सांस ली। स्टीफन्स को ब्रह्माण्ड के बारे में कई तरह के शोध करने का श्रेय है।स्टीफन्स की जीवनी पर एक फिल्म थ्योरी ऑफ एवरीथिंग बनी है। जिसमें स्टीफन्स के कुछ कर दिखाने का जज्बा सामने आता है। स्टीफन्स हॉकिन्स में सबसे बड़ी बात थी कि जब वो 21 वर्ष के थे तभी डॉक्टरों ने उन्हें बता दिया था कि वो दो साल से ज्यादा जीवित नहीं रह पाएंगे। स्टीफन्स को मोटर न्यूरोन नाम की लाइलाज बीमारी थी। यही वजह है कि वो 1963 से व्हील चेयर पर आ गए। स्टीफन्स उन सभी लोगों के लिए बहुत बड़ी मिसाल हैं जो दिव्यांग  हैं। बता दें कि स्टीफन्स को आइंस्टीन के बाद विश्व का सबसे बड़ा वैज्ञानिक माना जाता है। स्टीफन्स महान वैज्ञानिक थे। उनमें साहस और दृढ़ प्रतिज्ञा कूट-कूट कर भरी हुई थी। भले ही उनकी जिंदगी व्हील चेयर पर गुजर रही थी, लेकिन उन्होंने सामने वाले को हमेशा हंसाने की कोशिश की, लेकिन अब ये महान वैज्ञानिक पूरे विश्व को रुला के चला गया। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस महान वैज्ञानिक के निधन पर शोक जताया और कहा कि वो सबके लिए हमेशा प्रेरणा के स्त्रोत बने रहेंगे। 

No comments:

Post a Comment