Tuesday, March 13, 2018

जिंदा हूं बेखबर ही सही

उसने प्यार से बुलाया।
मगर मैं गया नहीं।।

मैं क्यों नहीं गया।
किसी ने पूछा ही नहीं।।

दिमाग को खूब फिराया।
मगर कुछ निकला नहीं।।

दिल को खूब टटोला
धड़कन के सिवा कुछ मिला नहीं।।

पीछे मुड़कर भी देखा
कोई हमसफर दिखा ही नहीं।।

No comments:

Post a Comment