Friday, November 3, 2017

पटना की गंदगी देखने आएंगे पर्यटक !

(पटना बिहार) पटना जंक्शन  के पास भगवान बुद्ध की स्मृति में बिहार सरकार ने 22 एकड़ में 125 करोड़ की लागत से इस पार्क का निर्माण कराया है। इस पार्क का आइडिया सुशासन बाबू नीतीश कुमार का है। पर्यटन के लिहाज से इस पार्क का निर्माण तारीफ के काबिल है। लेकिन पर्यटकों को आकर्षित करने का मुख्यमंत्री के इस आइडिया को उनके ही अधिकारी पलीता लगा रहे हैं। पार्क के पार्किंग साइड की ओर गंदगी का अंबार लगा हुआ है। इसकी सुध लेने वाला कोई नहीं है। बता दें कि बुद्धा स्मृति पार्क फ्रेजर रोड पर स्थित है। फ्रेजर रोड पर सफाई का विशेष ध्यान रखा जा रहा है। जिसके चलते पर्यटकों को आकर्षित किया जा सकता है। लेकिन पार्किंग वाले गेट के आसपास इतनी गंदगी है कि उसकी बदबू के चलते आप सांस भी नहीं ले पाएंगे। यहां ऑटो स्टैंड है जिसके चलते हमेशा जाम की स्थिति बनी रहती है। ऊपर से ऐसे कई लोग है जो मूत्र त्याग करते दिख जाएंगे। ये रोड हिन्दुस्तान अखबार के दफ्तर के पीछे हैं, लेकिन पत्रकारिता करने वाले उन पत्रकारों को ये गंदगी दिखाई नहीं देती है। बस दफ्तर से बाहर निकलकर अपनी जिंदगी धुएं में उड़ाना पसंद
करते हैं। कभी लालू प्रसाद यादव ने पटना के सौंदर्यीकरण की बात कही थी, लेकिन वो बात हकीकत में नहीं बदल पाई। अब ये समझ से परे हैं कि सुशासन बाबू के नाम से मशहूर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को ये गंदगी क्यों नहीं दिखाई देती है। पटना को साफ-सुथरा बनाने की मुहिम क्यों नहीं तेज हो पा रही है? आखिर निगम के कर्मचारी इस कचरे को साफ करने से क्यों कतरा रहे हैं?  लोगों के मूत्र त्याग के लिए इंतजाम क्यों नहीं हो रहे हैं?  ये कुछ सवाल है जो सीधे सुशासन बाबू से जवाब मांग रहे हैं। वैसे जिस जगह पर ट्रैफिक के लिए जगह कम पड़ रही है वहां स्मृति पार्क का बनना थोड़ा अटपटा लगता है, लेकिन पर्यटन को बढ़ावा देने का सरकार का मकसद हो सकता है। इसलिए ये फैसला लिया गया होगा। .


No comments:

Post a Comment