Saturday, August 26, 2017

'मैसेंजर ऑफ क्राइम'


डेरा सच्चा सौदा का मालिक बाबा राम रहीम संत है या शैतान, इस पर से पर्दा उठ चुका है। CBI की विशेष कोर्ट ने 25 अगस्त को बाबा राम रहीम को रेप करने का दोषी ठहराया। 28 अगस्त को सजा सुनाई जाएगी। राम रहीम पर एक साध्वी ने बलात्कार का आरोप लगाया था। ये मामला 15 साल पुराना है। जब एक साध्वी ने 2000 मे एक गुमनाम पत्र प्रधानमंत्री और हाईकोर्ट को लिखा । जिसके बाद CBI ने मामला दर्ज किया और जांच शुरू की। जांच के बाद  CBI की विशेष ने बाबा राम रहीम को साध्वी से रेप का दोषी पाया। लेकिन इस फैसले के बाद जो घटनाएं घटीं, उसने हरियाणा सरकार की कानून-व्यवस्था की पोल खोल कर रख दी। 67 हजार जवान भी हिंसा को नहीं रोक पाए। आस्था के नाम पर लोगों की मानसिकता इतनी विकृत हो गई है कि उसका उदाहरण हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और झारखंड में हुई हिंसा है। इन राज्यों में बाबा राम रहीम के समर्थकों ने जमकर तोड़फोड़ किया। इस हिंसा में 32 लोगों की मौत हो गई। एक रेपिस्ट के लिए लोग किस कदर पागल हो गए, जजमेंट के बाद का दृश्य काफी भयावह हो गया कि उसको देख कर इंसान भौचक्क हो जाए। 6 राज्यों के 15 शहरों के 137 जगहों पर हिंसा फैल गई। 108 जगह आगजनी की घटनाएं हुईं। वहीं हिंसक भीड़ ने 200 गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया। उपद्रवियों ने 10 आॅफिसों में भी आग लगा दी। धर्म और अधर्म के बीच अंतर न समझने वाले राक्षसों ने रेलवे स्टेशन को भी नहीं बख्शा। 4 रेलवे स्टेशनों और 2 ट्रेनों में भी आग लगा दी। बाबा राम रहीम का असली नाम गुरमीत है। वो महज 23 साल की उम्र में डेरा सच्चा सौदा की गद्दी पर बैठा। 1948 में डेरा सच्चा सौदा की स्थापना हुई थी, लेकिन साध्वी दुष्कर्म मामले में दो लोगों डेरा सच्चा के मैनेजर रणजीत और खबर छापने वाले पत्रकार की हत्या के बाद बाबा राम रहीम के ऊपर शक की सूई घुम गई। वहीं भारी हिंसा और तोड़फोड़ को देखते हुए हरियाणा हाईकोर्ट ने बाबा राम रहीम की सारी संपत्ति जब्त करने का आदेश दिया। सारे नुकसान की भरपाई बाबा राम रहीम की संपत्ति से की जाएगी।

No comments:

Post a Comment